Preventing Diseases || वेग रोकने से होने वाले रोग

 

वेग रोकने से होने वाले रोग 

Preventing Diseases

Preventing Diseases || वेग रोकने से होने वाले रोग
Preventing Diseases 

 भूख रोकने से होने वाले रोग 

(Diseases caused by hunger)

      भूख लगने पर भी खाना ना खाने से शरीर टूटता है तथा अरुचि, ग्लानि और दुर्बलता आती हैं इसके अलावा पेट में दर्द होता है और सिर में चक्कर भी आने लगते हैं।

     पेट में जब दर्द हो तब यह जानने की कोशिश करनी चाहिए कि यह दर्द अजीर्ण के कारण तो नहीं है । यह दर्द अजीर्ण के हो और उसे भूख के कारण होने वाले दर्द को मानकर अधिक भोजन करने पर परिस्थिति बिगड़ सकती है।

प्यास रोकने से होने वाले रोग

 (Diseases caused by thirst)

     प्यास रोकने से मुंह में सूखापन , शरीर की शिथिलता , अंगों के कार्य करने की शक्ति, बहरापन, चक्कर आना, आंखों में अंधापन आदि रोग हो सकता है। शरीर में धातुओं की कमी से हृदय में भी प्रॉब्लम आ सकती हैं।

खांसी रोकने से होने वाले रोग 

(Diseases caused by stopping cough)

     खांसी को रोकने से खांसी और भी ज्यादा हो जाती है। दमा , अरुचि, हृदय के रोग, हिचकी जैसे श्वास नली एवं फेफड़ों के रोग हो जाते हैं।

थकान के कारण फुली हुई सांस को रोकने से होने वाले रोग 

(Diseases caused by stopping breathlessness due to fatigue)

     चलने से, दौड़ने से, व्यायाम करने से फूली हुई सांस को रोकने से आंतों एवं हृदय के रोग तथा बेचैनी आदि हो सकती हैं।

छींक को रोकने से होने वाले रोग 

(Diseases caused by preventing sneezing)

     छींक को रोकने से सिर में दर्द होता है। इंद्रिया दुर्बल बनती है एवं गर्दन अकड़ जाती है।

जानिए आपका शरीर कैसा हैं? आयुर्वेद के अनुसार , वात, पित्त, कफ त्रिदोष1



Leave a Reply

Your email address will not be published.