पतंजलि की दिव्य अर्शकल्प वटी पतंजलि की , फायदे , सेवन विधि व मात्रा || Divya arshkalp vati

 

पतंजलि की दिव्य अर्शकल्प वटी  || Divya arshkalp vati    


| Divya arshkalp vati
अर्श कल्प 

    आज के इस ब्लॉग में हम आपको बताएंगे पतंजलि की दिव्य अर्शकल्प वटी के बारे में, तो आइए जानते हैं दिव्य अर्शकल्प वटी के बारे में —


दिव्य अर्शकल्प वटी में डलने वाले घटक–

शुद्ध रसौत, हरड़ छोटी, बकायन के बीज, नीम के बीज, रीठा छाल, देसी कपूर,  कहरवा,  खूनखराबा, मकोय, एलुवा, नागदोन आदि ।


अर्शकल्प वटी के फायदे तथा मुख्य गुण–

  • खूनी व बादी दोनों तरह की बवासीर को दूर कर उसमें उत्पन्न होने वाली असुविधाओं से बचाती है कुछ दिन लगातार प्रयोग करने से बवासीर, भगंदर आदि से भी बचा जा सकता है।
  • यह अर्शजन्य शूल, दाह व पीड़ा को भी दूर करती है।


सेवन विधि व मात्रा–

  • छाछ या ताजे पानी के साथ रोग की अवस्था अनुसार 1-1 या 2-2 गोली प्रातः खाली पेट व सायं खाने से पहले सेवन करें।

यह भी देखें 👇

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.