Gyan Yog – ज्ञान योग की साधना में चतुर्थ चतुर्थष्ठाम

 

ज्ञान योग की साधना में चतुर्थ चतुर्थष्ठाम


gyanyog, sadhna, charusthastham,  ज्ञान योग की साधना में चतुर्थ चतुर्थष्ठाम
Gyan Yog


     ज्ञान योग में ज्ञान का अर्थ है जानना, इस योग के माध्यम से जानकर मोक्ष की प्राप्ति की जा सकती है। सांख्य योग में ज्ञान योग को प्रकृति व पुरुष के बीच भेद करना बताया गया है।

ज्ञान की अवस्था:-  चार साधन

१. विवेक
२. वैराग्य
३. षटसम्पत्ती
४. मुमुक्षुप्त


१. विवेक:-

     विवेक का अर्थ है ज्ञान व चेतना। इस स्थिति में व्यक्ति सत्य और असत्य चल- अचल आदि में भेद करने लग जाता है । गुण -दोष का अंतर पाना ही विवेक कहलाता है।


२. वैराग्य:-

     इस स्थिति में किसी भी प्रकार की इच्छाएं लालसाए , कार्य करने के बाद फल की इच्छा नहीं रह जाती। ज्ञान योग के साधक को यह ज्ञान होता है / होना आवश्यक है।


३. षटसम्पत्ती:-

      ज्ञान योग के साधक द्वारा निम्न 6 सिद्धांतों का पालन किया जाता है जिन्हें षटसम्पत्ती कहते हैं-

1. सम
2. दम
3. उपरति
4. तितीक्षा
5. श्रद्धा
6. समाधान

1. सम:- सम का अर्थ है शमन करना। उद्धेगो का श, इस स्थिति में मन पूर्ण रूप से शांत होता है तथा इंद्रियों के कामनाओं से दूर होता है।

2. दम:- दम का अर्थ है दमन करना। इस स्थिति में कर्मेंद्रियां तथा ज्ञानेंद्रियां को बाहरी विषयों से दूर किया जाता है।

3. उपरति:- भोगो से  उपरति भी निवृत्ति ही है , इस स्थिति में मन , बुद्धि स्वयं के वश में होती है तथा सांसारिक वस्तुओं का स्वयं के ऊपर कोई असर नहीं होता है।

4. तितीक्षा:- इस स्थिति में मन में धैर्य होता है तथा किसी भी तपस्या को करने के लिए मन तैयार रहता है।

5. श्रद्धा:- पवित्र ग्रंथों और शास्त्र वाक्य एवं गुरु वाक्य पर विश्वास , भरोसा एवं निष्ठा करना ही श्रद्धा कहलाता है।

6. समाधान:- इस आस्था में मन में पूरा ध्यान ब्रह्म की ओर होता है।


४. मुमुक्षुप्त:-

     हृदय में परमात्मा की अनुभूति रखते हुए मोक्ष को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा मुमुक्षुप्त कहलाती है । इसमें निरंतर ब्रह्म की प्राप्ति तथा संसार के समस्त बंधनों से मुक्त होने की इच्छाएं होती हैं। मोक्ष प्राप्ति के लिए दृढ़ संकल्प होना मुमुक्षुप्त कहलाता है।

यह भी पढ़े– षड्दर्शन का सामान्य परिचय || दर्शन कितने प्रकार के होते हैं || भारतीय षड्दर्शन

ज्ञान योग के अभ्यास के अवधारणाएं

नवधा भक्ति के भेद (साधना चतुष्ठा)

श्रवण :- गुरु की वाणी तथा ज्ञान को सुनना।
मनन :-  निरंतर मन ही मन ज्ञान का अभ्यास करना।
निधिभ्यास:- सत्य को स्वीकार करना तथा सत्य को जानना।
समाधि:- शून्यता की ओर जाना।


यह भी पढ़े👇

Leave a Reply

Your email address will not be published.