प्रोस्टोग्रिट के फायदे तथा सावधानियां और सेवन करने की विधि || Patanjali Divya Prostogrit in Hindi

प्रोस्टोग्रिट के फायदे तथा सावधानियां और सेवन करने की विधि 

 Patanjali Divya Prostogrit in Hindi

Patanjali prostogrit benefits, Prostogrit tablet ke fayde in hindi, Prostogrit in hindi,  Prostogrit tablet, Patanjali Prostogrit hindi, Benifits of Prostogrit,
Prostogrit


    दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे पतंजलि की एक आयुर्वेदिक औषधि  Patanjali Divya Prostogrit in Hindi के बारे में, इसके फायदे तथा सावधानियां और सेवन करने की विधि के बारे में विस्तार से जानेंगे-


प्रोस्टोग्रिट क्या हैं? (Prostogrit kya hai?) :-

    प्रोस्टोग्रिट एक आयुर्वेदिक औषधि हैं। जिसका निर्माण Patanjali की दिव्य फार्मेसी द्वारा किया गया हैं | Prostogrit औषधि पुरुषो मे उपस्थित एक प्रोस्टेट ग्रंथि से जुड़े सभी प्रकार की समस्याओं को समाप्त करती हैं | प्रोस्टेट ग्रंथि से जुडी समस्याएँ व्यक्ति में अधिकतर 50 वर्ष की आयु के बाद आती हैं|

     यह समस्या होने पर पेशाब करने में कठिनाई, दर्द या पेशाब करने के बाद भी मूत्राशय भरा भरा सा महसूस होना आदि , और भी कई समस्याएं आती हैं | इस औषधि का सेवन कर के प्रोस्टेट ग्रंथि से जुडी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता हैं |


प्रोस्टोग्रिट के मुख्य घटक (Prostogrit ke gatak) :-

  • चंद्रप्रभा वटी
  • मंडूर भस्म
  • लौह भस्म
  • शुद्ध शिलाजीत
  • शुद्ध गुग्गुल


प्रोस्टोग्रिट के फायदे (Prostogrit ke fayde) :-

प्रोस्टेट ग्रंथि के विकार को ख़त्म  करे (for prostate gland disorder)

    यह औषधि प्रोस्टेट ग्रंथि के सभी विकारो को खत्म करने की एक रामबाण औषधि हैं | यह ग्रंथि केवल पुरुषो में ही मूत्राशय के पास होती हैं | यह ग्रंथि प्रजनन में भी सहायक होती हैं | जब पुरुषो में उपस्थित हार्मोन में जब कमी आने लगती हैं , तो तभी से यह विकार शुरू हो जाता हैं | इस विकार में प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार बढ़ने लगता हैं जिसके लक्षण निम्न भी हो सकते हैं –


  • नींद के समय बार बार पेशाब का आना
  • मूत्र त्याग शुरू करने में दिक्कत होना
  • मूत्रधारा का कमजोर होना
  • यूरिन त्याग के बाद भी बूंद- बूंद टपकना
  • मूत्र पर नियंत्रण न होना पाना
  • मूत्र पथ में संक्रमण आदि।


प्रोस्टोग्रिट सेवन करने की विधि (Prostogrit sevan karne ki vidhi) :-

  • दिन में दो बार २-२ गोलियों का सेवन करना चाहिए |
  • इसका सेवन गुनगुने जल के साथ करना चाहिए |


 सावधानियाँ (Prostogrit ke sevan ki savdhaniyan):-

  • इसका प्रयोग चिकित्सक के परामर्श से करें |
  • इसको नमी से दूर रखे।
  • अच्छी तरह से बंद करके रखे | 
  • धूप के सम्पर्क में ना रखे |


प्रोस्टोग्रिट की उपलबधता (availability of Prostogrit ) :-

  • नजदीकी पतंजलि स्टोर।
  • ऑनलाइन माध्यम द्वारा।


Read more :-

2 thoughts on “प्रोस्टोग्रिट के फायदे तथा सावधानियां और सेवन करने की विधि || Patanjali Divya Prostogrit in Hindi

  • December 12, 2021 at 1:27 am
    Permalink

    में 3 माह से prostogrit खा रहा हूँ, पर मुझे
    कोई फायदा नही है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.