रामप्रसाद बिस्मिल एक क्रांतिकारी लेखक और एक आदर्श देशभक्त || Ramprasad Bismil in Hindi

 रामप्रसाद बिस्मिल एक क्रांतिकारी लेखक और एक आदर्श देशभक्त 

 Ramprasad Bismil in Hindi

     भारत की पावन भूमि अतीत से ही वीर सपूतों की भूमि रही है । इसकी मिट्टी में ऐसी आन और शान छुपी पड़ी है , जो एक बार माथे पर तिलक लगा लेता है , उस पर जादू – सा प्रभाव चल पड़ता है और अपने लहू का एक एक कतरा देश भक्ति की वेदी पर बहाने के लिए तैयार हो जाता है । ऐसे ही वीर थे Ramprasad Bismil , जिन्होंने चाणक्य की तरह ब्रिटिश राज को खत्म करने की प्रतिज्ञा की थी । घर छोड़ने के बाद उन्होंने कभी मुड़कर नहीं देखा ।

atmakatha ram prasad bismil राम प्रसाद बिस्मिल का पूरा नाम ram prasad bismil cast how did ram prasad bismil died ram prasad bismil ashfaqulla khan roshan singh ram prasad bismil real name राम प्रसाद बिस्मिल के विचार ram prasad bismil mother
रामप्रसाद बिस्मिल


     रामप्रसाद बिस्मिल का जन्म 11 जून , 1897 ई ० में उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर नामक स्थान पर एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ । इनके पिता का नाम मुरलीधर तथा माता का नाम मूलमती था । बचपन से ही Ramprasad Bismil पतन की राह पर चलने लगे । पांचवी में वे दो बार अनुत्तीर्ण हुए । कुसंगति का दुष्प्रभाव इतना बढ़ गया कि अपने जीवन को सुधारना टेढ़ी खीर बन गया । गन्दे उपन्यासों ने उनके चरित्र का हरण कर लिया था । वे 50-60 सिगरेट रोजाना पीते थे । पिता ने विचार किया कि उन्हें किसी काम धन्धे में लगाया जाए ।

      रामप्रसाद भी अपने जीवन से तंग आ गए थे । उन्हें अपने जीवन में अन्धकार ही अन्धकार दिखाई दे रहा था । परन्तु विधि की लीला और ही थी । उनका सम्पर्क आर्य समाज के बड़े संन्यासी स्वामी सोमदेव जी सरस्वती से हुआ । स्वामी के प्रवचन व उपदेशों का उन पर गहरा प्रभाव पड़ा और रामप्रसाद नित्य आर्य समाज के सत्संगों में जाने लगे । महर्षि दयानन्द के ब्रह्मचर्य की महिमा सुनकर उनके ऊपर जादुई असर होने लगा और उनके अन्दर धीरे – धीरे जान आने लगी । आर्य समाज के सिद्धान्तों व सत्यार्थ प्रकाश ग्रन्थ ने उन पर इतना प्रभाव डाला कि उन्होंने अपने आपको आर्य समाज के लिए समर्पित कर दिया और अच्छे कार्यों में सब जगह नजर आने लगे । उनके जीवन में आमूल चूल परिवर्तन आ गया था । उन्होंने महर्षि दयानन्द का जीवन चरित्र पढ़ कर तपस्या का मार्ग अपनाया । 



 पवित्र विचार – प्रवाह ही जीवन है तथा विचार – प्रवाह का विघटन ही मृत्यु है । -राम प्रसाद विसिमल


    1916 में भाई परमानन्द को फांसी की सजा हुई थी । उन्होंने “ तवारीखे हिन्द “ एक पुस्तक लिखी थी । बिस्मिल उसे पढ़कर बहुत प्रभावित हुए और प्रतिज्ञा की कि ब्रिटिश सरकार से इस अन्याय का बदला लेकर रहूँगा । 


    Read more – Chhatrapati Shivaji Maharaj – छत्रपति शिवाजी महाराज


     रामप्रसाद बिस्मिल ने सोचा कि ईंट का जवाब पत्थर से देने के लिए हमें हथियार चाहिए और इसे खरीदने के लिए धन चाहिए । अत : उन्होंने निर्णय लिया कि क्रांतिकारियों के साहित्य को छपवाकर अधिक से अधिक बांटा जाए । 

     धन के अभाव के कारण Ramprasad Bismil व उसके साथियों ने ट्रेन से सरकारी खजाना लूटने की योजना बनाई और उसमें सफल हुए । यह घटना काकोरी काण्ड से पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है । उन्होंने 9 अगस्त , 1925 की शाम को काकोरी के निकट चलती रेलगाड़ी की जंजीर खींचकर रोक दिया और गार्ड के डिब्बे में रखा सारा खजाना लूट लिया । इसके लिए उन पर वारंट जारी कर दिया गया और उनकी खोजबीन शुरू हो गई । 

     वे किसी तरह प्रशासन से आंख बचाकर लखनऊ की ओर प्रस्थान कर गए । शाहजहांपुर स्टेशन पर गाड़ी पकड़ने के लिए आए । पुलिस चौकन्नी थी । इनके जाते हुए पुलिस वाले ने कहा ; रुक जाओ । वरना गोली चला दूंगा । दरोगा आगे बढ़े और पूछा तुम कौन हो ? और कहां जा रहे हो ? इस पर बिस्मिल ने उत्तर दिया कि हम सब विद्यार्थी हैं और लखनऊ जा रहे हैं । पुलिस का शक दूर हो गया । उस रात मुसलाधार बारिश हो रही थी । जनवरी का महीना था । भीगा हुआ शरीर था । सर्दी से शरीर कांप रहा था । रातभर भीगते रहे परन्तु अपने इरादे से नहीं डगमगाए । 


Read more – Subhash Chandra Bose – ऐसे थे नेताजी सुभाष चंद्र बोस


    क्रांतिकारियों की खोज जोरशोर से जारी थी । लगभग एक महीने के बाद चन्द्रशेखर आज़ाद को छोड़कर सभी संलिप्त क्रान्तिकारी पकड़े गए । लगभग डेढ़ वर्ष तक मुकदमा चला । रामप्रसाद , अशफाकउल्ला , रोशन सिंह और राजेन्द्र लाहिड़ी को फांसी की सजा सुनाई गई ।

     काकोरी काण्ड अपने आप में अद्वितीय घटना थी । इस काण्ड में लिप्त रामप्रसाद बिस्मिल को पकड़कर जेल भेज दिया गया । जेल के अन्दर पहरेदार व अन्य कर्मचारी उनके व्यवहार से अत्यधिक प्रभावित थे । उन्होंने जेल से भागने की योजना बनाई परन्तु उन्होंने सोचा कि पहरेदार के साथ विश्वासघात होगा और बेचारा वह फंस जायेगा । वे धोखेबाजी व बेईमानी के खिलाफ थे । बिस्मिल व उनके साथियों को फांसी देने की तारीख निश्चित कर दी गई थी वे नित्य जेल में हवन करते थे ।

      उनका प्रसन्न मुख देखकर जेलर ने पूछा था कि तुम्हारा गुरु कौन है ? तब Ramprasad Bismil ने उत्तर दिया था कि जिस दिन उसे फांसी दी जायेगी , उस दिन वह अपने गुरु का नाम बतायेगा और ठीक ऐसा ही हुआ । जब बिस्मिल को फांसी दी जाने लगी तब जेलर ने वह बात याद दिलाई । तब बिस्मिल ने कहा था कि उसके गुरु हैं स्वामी दयानन्द । बिस्मिल ने अपने दोस्तों के नाम फरमान लिखा था – साथियों ! सबको मालूम है कि 19 दिसम्बर , 1927 को प्रात : 8 बजे मैं फांसी के फन्दे पर लटका दिया जाऊँगा । आज से मेरे जीवन की तीन रात बाकी है । उसके बाद मेरा शरीर दुनिया में विलीन हो जायेगा । परन्तु जन्म – मृत्यु परमात्मा के बनाये हुए अटल नियम हैं । मैं पुनः जन्म भारतवर्ष में ही लूंगा । मैं ईश्वर से हाथ जोड़कर प्रार्थना करता हूँ कि वो मुझे कई बार भारत मां की कोख से इस पावन धरा पर पैदा करे ।


रामप्रसाद बिस्मिल एक क्रांतिकारी लेखक और एक आदर्श देशभक्त || Ramprasad Bismil in Hindi


 विचारों की पवित्रता ही नैतिकता , आध्यात्मिकता व मानवता है । – राम प्रसाद विस्मिल 


     बिस्मिल हीरे की तरह कठोर और कमल की तरह कोमल थे । जब उनकी मां गोरखपुर की सैंट्रल जेल में फांसी देने से पहले मिलने आई तो रामप्रसाद आंसू नहीं रोक पाए । तब मां ने कहा , बेटा ! यह तुम क्या कर रहे हो ? मैं तो अपने सपूत को एक योद्धा मानती हूँ । यदि रोते हुए ही मौत का सामना करना चाहते हो तो फिर आजादी की लड़ाई में हिस्सा ही क्यों लिया ? यह बात सुनकर जेल के अधिकारी चकित रह गए । बिस्मिल ने कहा “ माँ , ये आंसू भय के आंसू नहीं हैं । ये हर्ष के आंसू हैं । तुम जैसी वीर माता को पाने की खुशी के हैं ये आंसू । ” 19 दिसम्बर 1927 को प्रात : 6.30 बजे गोरखपुर की जेल में ब्रिटिश सरकार के सबसे खौफनाक दुश्मन को फांसी पर लटका दिया गया । देश की जनता पहले ही गोरखपुर पहुंच चुकी थी । 


रामप्रसाद बिस्मिल एक क्रांतिकारी लेखक और एक आदर्श देशभक्त || Ramprasad Bismil in Hindi

 विचार सबसे बड़ी शक्ति व सम्पत्ति है । विचार विश्व की सबसे बड़ी ताकत है । विचार में अपरिमित बल व ऊर्जा है । 

     बिस्मिल ने फांसी का फन्दा चूमने से पूर्व भारत माता की जय , वन्देमातरम् का उद्घोष किया । ईश्वर का ध्यान करते हुए वेदमन्त्रों का उच्चारण किया और कहा कि हे ईश्वर ! मुझे वर दो कि अंतिम सांस तक मैं तुम्हारा ही ध्यान करूँ तथा तुम में ही विलीन हो जाऊँ । फिर बिस्मिल ने अंतिम बार धरती माता को प्रणाम किया और मिट्टी का तिलक लगाया । फिर वन्देमातरम् कहते हुए वह फांसी के फन्दे पर झूल गए । एक बड़े जुलूस के रूप में उनकी शवयात्रा निकाली गई और गोरखपुर के नागरिकों ने वीर सपूत को विदाई दी । उनकी कुर्बानी ने देश की आजादी की लड़ाई को और भी तेज कर दिया । रामप्रसाद बिस्मिल एक क्रान्तिकारी लेखक और एक आदर्श देशभक्त के रूप में सदैव अमर रहेंगे ।


Read more —


Leave a Reply

Your email address will not be published.