Guru Purnima Special – ब्रह्म और गुरु से हो एकाकार || Guru Purnima in Hindi

 Guru Purnima Special – ब्रह्म और गुरु से हो एकाकार 
 

 

 Guru Purnima in Hindi

 

 

      सच्चे गुरु की खोज करने निकले । गुरु मिल भी गया । लेकिन उससे सूत्र जुड़े तो कैसे ? शरीर , मन और विचार की सीमाओं से परे गुरु और शिष्य का संबंध ब्रह्म से एकहो जाने में है । सच्चा गुरुवही है , जो ब्रह्म में एकाकार हो चुका है । गुरु की बताए साधना पथ पर नियमित चलना जीवन में आत्मिक शांति लाता है ।

 

guru purnima 2021 kab hai, guru purnima 2021 india, What is meant by Guru Purnima?, What happens on Guru Purnima?, Why do we celebrate Guru Purnima?, What is the difference between Guru Purnima and Teachers Day?, guru purnima 2021, guru purnima quotes, guru purnima in hindi, guru purnima wishes, guru purnima images, when is guru purnima celebrated, story of guru purnima,
Guru Purnima

     सब गुरु के जानकी अविरल धारा तदय में प्रवाहित हो सके , इसके लिए मन को सब विचारों से , सबत्तियों से , सब खयालों से , सब कामनाओं से , सब वासनाओं से खाली करना जरूरी है । अगर हदय सही स्थिति में हो , मन विचारों से खाली हो तो गुरु ही क्या , परमगुरु की कृपा भी मिलती है । अगर मन को पूरी तरह खाली कर ठहरा सको , तो आज तक संसार में जितने भी बुद्ध पुरुष हुए हैं , उन सभी महान आत्माओं का कृपा प्रसाद गुरु पूर्णिमा के दिन प्राप्त किया जा सकता है ।

     शारीरिक रूप से गुरु के सामने उपस्थित रहना , उनको देखना , उनकी सेवा करना , यह भी एक सम्बंध होता है । गुरु से मन का सम्बंध भी बन सकता है । गुरु से प्रेम का , भावना का , श्रद्धा का सम्बंध बन जाता है । गुरु जो भी कहते हैं , उसे बुद्धि से जानना , समझना और जानते – समझते हुए बुद्धि को विकसित करलेना , इससे बुद्धि बहुत संस्कारी हो जाएगी । पर , गुरु से शरीर , मन और बुद्धि से सम्बंध जोड़ना कोई ऊंची बात नहीं है । शरीर अस्थायी है , मन बदल जाता है और बुद्धि का भी नाश हो जाता है । इसलिए यह सम्बंध बहुत दिनों तक नहीं चल सकता ।

     सद्गुरु से सच्चा सम्बंध वही है , जिसमें शिष्य गुरु से वहां जुड़ता है , जहां गुरुस्वयं जुड़ गए हों । अस्तित्व की पूर्णता में या कहो पूर्ण शून्यता में । अस्तित्व से एकाकार हो जाने के बाद शिष्य और गुरु दो नहीं रहते , एक हो जाते हैं । इस एकता का , इस एकत्व का अनुभव करने के लिए आवश्यकता है साधना की , समझ की , विवेक की , समर्पण की , श्रद्धा की ।

 गुरुध्यानं तथा कृत्वा स्वयं ब्रह्ममयो भवेत् ।

पिण्डे पदे तथा रूपे मुक्तः सो नात्रा संशयः ।

    ‘ गुरुगीता ‘ का यह श्लोक कहता है कि जो गुरु का ध्यान करता है , वह स्वयं ब्रह्मरूप हो जाता है । क्या ब्रह्म और गुरु एक ही हैं ? हां , ये दोनों एक ही हैं , क्योंकि गुरु होता ही वही है , जिसने ब्रह्मानुभूति की है । ब्रह्मानुभूति करने वाला व्यक्ति ब्रह्म से जुदा नहीं रह जाता है । ‘ ब्रह्मविद् ब्रह्मैव भवति ‘ यानी जो ब्रह्म को जानता है , वह ब्रह्मरूप हो जाता है । 

     परमात्मा को आप किसी वस्तु की तरह नहीं जान सकते । परमात्मा का मिलना तो ऐसे है , जैसे नमक की पोटली सागर में गई और सागररूप हो गई । नमक की पोटली सागर में जाने के बाद वापिस लौटकर बाहर नहीं आ सकती । वह तो अपना अस्तित्व खोकर सागर से एक हो जाती है । इसी तरह से जब परमात्मा की अनुभूति होती है , तो वह आपको और परमात्मा को एक कर देती है । हालांकि ‘ एक कर देती है ‘ , यह कहना भी उचित नहीं , क्योंकि सच तो यह है कि आप और परमात्मा दो नहीं हैं , एक ही हैं , एक थे और एक ही रहेंगे । लेकिन जिसको उस एकता का पता चल जाए , उसी को कहते हैं गुरु

     याद रहे , जिसको उस ब्रह्म का अनुभव नहीं हुआ , उसके लाखों , करोड़ों चेले हो जाने के बावजूद , वह गुरु नहीं है।जो गुरु है , जिसने ब्रह्म का बोध किया है , ऐसे व्यक्ति के पीछे चाहे एक भी चेलान होया हजारों की भीड़ खड़ी हो जाए , वह अपने गुरुत्व से परिपूर्ण होता है । उसे अगर कोई पूछे कि ‘ आप किसके गुरु हैं और आपका शिष्य कौन है ? ‘ तो वह कहेगा , ‘ हम अपने ही गुरु हैं और हमारा मन ही हमारा शिष्य है । ‘

     जिसका अपना मन ही उसका शिष्य नहीं हो पाया , वह किसी और को शिष्य क्या बनाएगा ? जिसका अपना मन अभी सोया हुआ है , वह किसी और को क्या जगा पाएगा ? वस्तुतः सच तो यह है कि जिसने अपने भीतर के गुरु यानी ज्ञानस्वरूप ब्रह्म की अनुभूति कर ली , वही गुरु हो जाता है ।

     गुरु की नजर से देखें तो वह स्वयं भी ब्रह्म है और अपनी इस अवस्था में वह किसी को अपने से कम भी नहीं देखता है । जो अपने आपको दूसरों से बड़ा ज्ञानी और श्रेष्ठ समझता है , वह गुरुतो हो ही नहीं सकता । जिसको सच्चे ज्ञान की प्राप्ति हो गई है , जो सद्गुरु पदवी पर स्थित हो गया है , वह कोई विकारयुक्त व्यवहार नहीं कर सकता , कोई आडम्बरया पाखंड नहीं कर सकता । 

     भगवान कृष्ण ‘ गीता ‘ में कहते हैं कि ब्रह्म की प्राप्ति कर लेने के बाद भी ब्रह्मज्ञानी को चाहिए कि वह ऐसा व्यवहार करे , जिससे दूसरे लोग सीख पाएं । जो अपने भीतर समाधि को प्राप्त हो गया , जो अपने भीतर बोध को प्राप्त हो गया , अब उसे कोई जरूरत नहीं कि वह मंदिरों में जाकर घंटियां बजाए , माला जपे या कुछ और करे , पर वह फिर भी सब कुछ करता है , क्योंकि उसे मंदिर जाते देखकर जो नहीं जाते हैं , वे भी जाएंगे और जब जाएंगे तो ही भीतर सत्संग का प्रेम जगेगा । फिर धीरे – धीरे वह सत्संग सुनने लगेगा और उसके भीतर परमार्थ मार्ग पर चलने की इच्छा जागेगी ।

    एक जलते हुए दीपक के बहुत पास एक अनजले दीपक को रख दो , तो जलते हुए दीये की ज्योति अनजली बाती पर छलांग मारकर पहुंच जाएगी । ठीक ऐसे ही गुरु की ब्रह्मानुभूति शिष्य के पास पहुंचजाती है । इसीलिए कहा गया है कि गुरु के सान्निध्य में रहो । अगर पूरा समर्पण का भाव है , यदि तुम्हारे इस शरीररूपी दीये में श्रद्धा का तेल और साधना की बत्ती है , तो ज्योत जलेगी ही । 

Guru Purnima Special - ब्रह्म और गुरु से हो एकाकार

     गुरु पूर्णिमा वाले दिन लोग गुरु की पूजा करते हैं , फल – फूल तथा धन – पैसा चढ़ाते हैं , पर गुरु शिष्य से पूजा नहीं , साधना के प्रति उसका समर्पण चाहता है । जो समर्पण नहीं करेगा , जो अपने भीतर अहंकारको बनाए रखेगा , जिसको साधना में कोई रुचि नहीं है , ऐसे चेले का क्या काम ! सद्गुरु ने दयापूर्वक रास्ता बता दिया है , अब इस रास्ते पर चलते रहना आपके जीवन का लक्ष्य होना चाहिए । 

     जो नियमित रूप से साधना करते हैं , उनको अपने भीतर गुरु की प्रतीति अवश्य हो जाती है । वे गुरु कृपा पाते हैं , चेहरे पर ध्यान की शांति होती है और जीवन में ध्यान का आनंद , ज्ञान का विवेक होता है ।

 

Read More –

Leave a Reply

Your email address will not be published.