पतंजलि दिव्य ज्वरनाशक वटी || Patanjali Divya Jwar Nashak vati Hindi Me

 पतंजलि दिव्य ज्वरनाशक वटी 
 Patanjali Divya Jwar Nashak vati Hindi Me

 

दिव्य ज्वर नाशक वटी क्या हैं :-
What is Divya Jwar nashak vati :-

    नमस्कार दोस्तों, आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं पतंजलि आयुर्वेद द्वारा बनाए गए आयुर्वेदिक औषधि Patanjali Divya Jwar Nashak vati Hindi Me के बारे में यह पतंजलि की दिव्य फार्मेसी द्वारा बनाई गई एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसका उपयोग बुखार , जुखाम, खांसी, ब्रोंकाइटिस आदि रोगों में किया जाता है। यह एक एंटीबैक्टीरियल ओषधि हैं , तथा साथ ही यह हमारी प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाती है।

     इस वटी में गिलोय, देशी तुलसी, संजीवनी वटी जैसे औषधि मिले होते हैं जो अपने आप में एक प्रकार की स्वयं औषधि है। इन तीनों तत्वों को मिलाकर बनी यह औषधि बहुत ही प्रभावकारी हैं।

दिव्य ज्वर नाशक वटी के घटक :-
Components of Divya Jwar nashak :-

  • गिलोय
  • देशी तुलसी
  • हल्दी
  • नीम
  • कुटकी
  • चिरायता
  • कालमेघ
  • जलनीम
  • अश्वगंधा
  • अर्कमूल
  • द्रोणपुष्पी
  • लवंग
  • दालचीनी
  • काकड़ासिंगी
  • मुलेठी
  • रुदन्ती
  • अकरकरा
  • अम्रितासत्
  • संजीवनी वटी
  • कपर्दक भस्म
  • अभ्रकभस्म
  • त्रिकटु
  • टंकण भस्म
  • मुक्ताशक्ति भस्म

patanjali jwarnashak vati uses in hindi, jwarnashak vati composition, patanjali fever medicine, patanjali jwarnashak vati reviews, jwar nashak vati use in hindi, jwarnashak vati uses in hindi, jwarnashak vati composition, benefits of patanjali jwarnashak vati, patanjali jwarnashak kwath price,

दिव्य ज्वर नाशक वटी के फायदे :-
Benifits of Jwar nashak vati :-

 

ज्वर में for fever :-

    यह दिव्य ज्वरनाशक वटी पुराने से पुराने बुखार को तथा किसी भी प्रकार के बुखार हो खत्म करने में बहुत ही लाभकारी हैं। हर प्रकार के बुखार के लिए यह एक उत्तम औषधि है । मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसे आदि रोगों में अति लाभकारी है। अगर किसी व्यक्ति को मौसम बदलने के अनुसार ही बुखार होने लगता है तो वह इस औषधि का सेवन अवश्य करें।

खांसी और जुखाम में for cold and cough :-

    बहुत से लोगों को मौसम बदलने के साथ-साथ बुखार तथा नजला , खांसी , जुकाम आदि रोग होने लगते हैं। उन्हें इस समस्या के लिए ज्वरनाशक वटी का सेवन करना चाहिए। कुछ दिन लगातार सेवन करने से अच्छे परिणाम आने लगते हैं।

ब्रोंकाइटीस या श्वसनीशोथ for Bronchitis :-

    ब्रोंकाइटिस श्वसन तंत्र में संक्रमण हो जाने के कारण होता है। कई बार तो यह अपने आप ठीक हो जाता है और कई बार इसका प्रकोप बढ़ जाता है। इसमें ज्वरनाशक वटी का सेवन करने से आराम मिलता है । इस रोग में फेफड़ों तक ले जाने वाली जो नलिया होती है उनकी अंदर वाली परत पर सूजन आ जाती है। ज्वरनाशक वटी इस रोग में मुख्य रूप से लाभकारी है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये for immunity :-

    दिव्य ज्वरनाशक वटी में गिलोय, तुलसी, हल्दी, नीम जैसे औषधि मिली हुई है , जो कि सारी औषधि एंटी वायरल, एंटीबैक्टीरियल गुण रखती है। जिसका सेवन करने से यह शरीर के रोंगों को दूर करने के साथ-साथ हमारी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का कार्य भी करती है। इसके सेवन से हम रोंगों से बचे रहते हैं तथा उनसे अच्छी तरह लड़ भी सकते हैं। इसी कारण इसका सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।

 

अन्य फायदे Other benefits :-

  • जीर्ण जिगर की बीमारी
  • हेपेटाईटिस
  • पाचन तंत्र को मजबूत बनाये
  • पीलिया
  • दमा
  • खुजली आदि रोगों में।

 

सेवन विधि sevan vidhi :-

  • 1 से 2 गोली का सेवन दिन में 2-3 बार करना चाहिए|
  • इसका सेवन गुनगुने जल या दूध के साथ करना चाहिए।

 

सावधानियाँ Divya Jwar nashak vati ki savdhaniya :-

  •  इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।मुख्यत रूप से गर्भवती महिला को।
  • बच्चो को इस मात्रा कम करके देनी चाहिए|
  • अधिक लम्बे समय तक इसका उपयोग न करें चाहिए।

 

दिव्य ज्वरनाशक वटी की उपलब्धता Available of Divya Jwar nashak vati :-

    दिव्य ज्वरनाशक वटी आपको अपने नजदीकी पतंजली चिकित्सालय या मेगा स्टोर पर मिल जाएगी, क्या आप इसे ऑनलाइन ऑर्डर करके भी मंगा सकते हैं।

 

read more-

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.