सुखासन करने का सही तरीका || Sukhasan Hindi me

 सुखासन करने का सही तरीका

 Sukhasan Hindi me.

 

शाब्दिक अर्थ :-
Sukhasan ka Arth :-

     सुख का अर्थ होता है प्रसन्नता। यह आसन पालथी मारकर बैठना की वजह से इसे सुख आसन कहते हैं। जिस आसन में बैठने से सुख की अनुभूति प्राप्त हो वह Sukhasan कहलाता है। प्राचीन समय में पालथी लगाकर बैठने वाले आसन को ही सुखासन माना जाता रहा है।

 

सुखासन करने की विधि :-
Sukhasan karne ki vidhi :-

     जमीन पर घुटनों को मोड़ते हुए पालथी मारकर बैठ जाएं हाथों को गोद में या घुटनों पर रखें कमर तथा सिर को सीधा रखें।

 

ध्यान :-

 सभी चक्रों से निकलने वाली ऊर्जा की अनुभूति।

 

स्वास क्रम :-

 प्राणायाम के साथ या अनुकूलता अनुसार।

 

दिशा :- 

पूर्व या उत्तर आध्यात्मिक लाभ हेतु।

 

सुखासन करने के लाभ :-
Sukhasan ke fayde :-

  • ध्यान के लिए यह एक उत्कृष्ट आसन हैं
  • भोजन करते समय इस आसन में बैठना हितकारी है।
  • जो ध्यान के लिए पद्मासन लगाने में असमर्थ हैं तो वह इस आसन का उपयोग कर सकते हैं।
  • पूजा पाठ में यह आसन सामान्य क्या जाता है।
  • यह आसन शारीरिक स्फूर्ति मन की शांति और शरीर को निरोगी रखने के लिए बहुत लाभकारी हैं।

 

Read more-

Headstand :- शीर्षासन करने का सही तरीका, फायदे, नुकसान और सावधानियां

हास्य योग चिकित्सा || Comic yoga therapy

हलासन करने की सही विधि, लाभ तथा सावधानियां

इतना योग तो सबको करना चाहिए

ये 4 आसन दिलाएंगे जोड़ों के दर्द से मुक्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published.