पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप || Patanjali Saumya Eye Drop in Hindi

 पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप 

 Patanjali Saumya Eye Drop in Hindi

   दोस्तों स्वागत है आपका फिर से हमारे ब्लॉग में, और मैं हमेशा की तरह आपके लिए फिर से लेकर आ गया हूं एक आयुर्वेदिक दवा,  Patanjali Saumya Eye Drop के बारे में यह आंखों के लिए एक वरदान के समान ओषधि हैं। अगर आप कंप्यूटर पर या किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस पर ज्यादा समय बिताते हैं तो यह आपके लिए काफी फायदेमंद होगा, और आपको ऐसे में इसका उपयोग करना चाहिए। यह पतंजलि रिसर्च सेंटर में बाबा रामदेव एवं आचार्य बालकिशन जी के सानिध्य में तैयार की गई हैं, जो कि एक आयुर्वेदिक औषधि है । तो आइए Patanjali Saumya Eye Drop के बारे में विस्तार से जानते हैं

     पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप Patanjali Saumya Eye Drop in Hindi एक आयुर्वेदिक औषधि है । पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप बहुत सी महत्वपूर्ण जड़ी – बूटियों का अर्क है , जो नेत्र रोगों में अत्यन्त लाभकारी है । इसमें अपराजिता फूल तथा अन्य महत्वपूर्ण प्राकृतिक जड़ी – बूटियाँ हैं , जो नेत्रों को आराम देने में व नेत्र ज्योति को बढ़ाने में सहायक हैं । 

पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप के घटक –
Patanjali Saumya Eye Drop ke Ghatak –

 

  • अपराजिता फूल
  •  लोधरा
  •  धनिया
  •  निरगुण्डी
  •  मुलेठी
  •  अजमोद
  •  तुलसी पत्र
  •  आवला
  •  मंजीष्ठा 
  • हरितकी 
  •  सहजन 
  • गुलाब जल 
  • नीम्ब 
  •  हरिद्रा
  • कपूर 
  • ममीरा 
  •  दुर्बा 
  •  सेंधा नमक 
  • बहेढ़ा 
  •  पलास फूल 
  •  स्फटिक भस्म
  •  भंगराज 
  •  पूनर्नवा मूल 
  •  यशद भस्म
  •  रक्तचंदन 
  •  एलोवेरा 
  • सुहागा
  •  निर्मली / कटक 
  • रसोथ
  •  ग्लिसरीन

परिरक्षक : बेंजलकोनियम क्लोराइड विलियन ( आईपी ) 0.01 % v / v 

 

पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप के फायदे –
Patanjali Saumya Eye Drop ke Fayde –

  • पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप नेत्रों को स्वस्थ रखने के लिए चरक संहिता , सुश्रुत संहिता , भावप्रकाश निघण्टु व आयुर्वेदिक सारसंग्रह में वर्णित जड़ी – बूटियों के अर्क द्वारा निर्मित आई ड्रॉप है , जो कि नेत्रों को होने वाले विभिन्न प्रकार के संक्रमणों से रक्षा करती है । 
  • यह लम्बे समय तक कम्प्यूटर पर या अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर , जिनसे हानिकारक किरणें निकलती हैं , से नेत्रों की रक्षा करने में सहायक है । 
  • यह नेत्रों को धुआँ , धूल , वायु प्रदूषण बचाने में सहायक है और नेत्रों को शीतल रखती है ।
  • यह नेत्रों की ज्योति को बढ़ाने व कायम रखने में सहायक है । 
  • इसके प्रभावों का वैज्ञानिक विश्लेषण करने के लिए KARMIC LIFESCIENCE LLP AHMEDABAD में आधुनिक वैज्ञानिक विधियों द्वारा परीक्षण व गहन अध्ययन किया गया है , और परीक्षण से प्राप्त परिणाम यह सुनिश्चित करते हैं कि ऊपर लिखे हुए सभी तथ्यों में पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप के प्रभाव प्रामाणिक हैं तथा इसका कोई हानिकारक प्रभाव भी नेत्रों में नहीं पाया गया है । 

पतंजलि सौम्या आई ड्रॉप के प्रयोग विधि –
Patanjali Saumya Eye Drop Use –

  • दो से तीन बूंद दिन में तीन बार नेत्रों में डालना है । संक्रमण की स्थिति में चिकित्सक के परामर्श के अनुसार हर दो से तीन घण्टे में प्रयोग की जा सकती है ।

 

Disclaimre – इस आर्टिकल में बताई गई विधि, तरीके व दावों की पुष्टि Yogasan Tips बिल्कुल भी नहीं करता है। इसको केवल सुझाव के रूप में भी ले । इस तरह के किसी भी उपचार, दवा या डाइट पर अमल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर ले।

 

Read More – 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.